शराब सिंडिकेट गैंगवार: अब अर्जुन ठाकुर ने गृहमंत्री से लगाई गुहार , एके सिंह और पिंटू भाटिया को भी आरोपी बनाएं

0
663

इंदौर। इंदौर के शराब कारोबारियों के बीच सोमवार को शुरू हुआ गैंगवार अब नए मोड़ पर पहुंच गया है। शराब सिडीकेट के दफ्तर में चिंटू ठाकुर के हाथों गोली खाने के बाद अस्पताल में इलाज करवा रहे अर्जुन ठाकुर ने अब प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के यहां दस्तक दी है। ‌ उन्होंने कहा कि इंदौर पुलिस को यह निर्देश दिया जाए कि वह मेरे द्वारा दर्ज करवाई गई एफ आई आर के आधार पर चिंटू ठकुर, हेमू ठाकुर और सतीश भाऊ के साथ एके सिंह और पिंटू भाटिया को भी आरोपी बनाया जाए। ‌‌ अर्जुन का कहना है कि यह समझ से परे है कि उसके द्वारा दर्ज कराई गई प्रथम सूचना रिपोर्ट में सिंह और भाटिया का नाम होने के बावजूद इन्हें आरोपी क्यों नहीं बनाया गया।

गृहमंत्री को भेजी तीन पन्ने की शिकायत में अर्जुन ठाकुर में सिलसिलेवार ढंग से पूरे घटनाक्रम का खुलासा करते हुए बताया है कि किस तरह एके सिंह और पिंटू भाटिया ने उसकी हत्या का षड्यंत्र रचा था। उसे  सुनियोजित तरीके से सिंडिकेट के ऑफिस में बुलाया गया और उसके पहुंचने के बाद वहां पहुंचे सिंह, भाटिया ने अपने साथ आए लोगों से कहा कि अर्जुन को खत्म कर दो।

इधर इस मामले में बुधवार सुबह सरेंडर करने वाले सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर से पुलिस दिन भर पूछताछ करती रही उन्हें विजय नगर थाने से क्राइम ब्रांच ले जाया गया था वहां दिनभर पूछताछ चली। घटना के बाद से ही फरार हेमू ठाकुर का अभी कुछ पता नहीं चल पाया है यह जानकारी भी सामने आ रही है इन तीनों ने घटना के बाद रानी बाग स्थित एक मकान में शरण ली थी यह मकान की शराब के कारोबार से जुड़े नानक सिंह का बताया जा रहा है। ‌‌

फरार हेमू ठाकुर की एक महिला मित्र और कुछ परिजनों को अभी भी पुलिस ने अपने शिकंजे में ले रखा है ऐसा माना जा रहा है कि इसी दबाव के चलते  वो भी जल्दी ही सरेंडर कर देगा।

 

 

 

 

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here