पश्चिम बंगाल की नाबालिग को झांसा देकर अगवा कर गुजरात ले जा रहा था तस्कर,छोटी ग्वालटोली पुलिस की ततपरता से हुआ बच्ची का रेस्क्यू,आरोपी भी गिरफ्त में।

0
336

इंदौर की छोटी ग्वालटोली थाना पुलिस ने अपनी सजगता और ततपरता से एक नाबालिग बच्ची के साथ किसी भी प्रकार की अनहोनी होने से पहले उसका रेस्क्यू कर लिया है।छोटी ग्वालटोली थाना प्रभारी श्रीमती सविता चौधरी और उनकी टीम ने नाबालिग के अगवा होने के 48 घण्टे के भीतर ही उसे आरोपी तस्कर समेत बरामद करवाया है।उनके इस सराहनीय कार्य के बाद एनसीपीसीआर के चेयरपर्सन प्रियंक कानूनगो ने उन्हें ट्वीट कर बधाई भी दी है।

 

दरअसल पश्चिम बंगाल के हेमताबाद थाना पुलिस ने दिल्ली की एक मिशन मुक्ति फाउंडेशन को एक पत्र लिखकर जानकारी दी थी कि बंगाल के उत्तर दिनाजपुर से एक 15 साल की नाबालिग 10 जनवरी को ट्यूशन के लिये निकली थी उसके बाद घर नही लौटी है।मिशन मुक्ति फाउंडेशन मानव तस्करी रोकने के लिये कार्य करता है।इस पत्र में पुलिस ने नाबालिग की पिछले दिनों जिन नम्बरो पर ज्यादा बातचीत हुई उनकी जानकारी भी दी थी।पत्र के मिलते ही मिशन मुक्ति के डिरेक्टर वीरेंद्र सिंह ने दिल्ली से अपनी तहकीकात शुरू की और बच्ची का जिन नम्बरो पर सम्पर्क था उनकी कॉल डिटेल निकाली तो मालूम हुआ कि इन नम्बर को चलाने वाले राठौर परेश जयंतीभाई की लोकेशन और नाबालिग की आखरी लोकेशन एक ही जगह की है।इस मामले में मिशन मुक्ति के डायरेक्टर वीरेंद्र ने एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो को भी इस मामले की जानकारी दी।जिसके बाद उन्होंने भी इस मामले में संज्ञान लिया।इन्वेस्टिगेशन के दौरान जानकारी मिली कि नाबालिग आरोपी के साथ गुजरात के रूट पर है जिसके बाद प्रियंक कानूनगो ने गुजरात पुलिस को अलर्ट कर दिया।इसी बीच आज सुबह नाबालिग ने इंदौर स्टेशन से एक महिला का फोन लेकर अपने दादा को फोन किया और बताया कि वह छोटिगवालटोली क्षेत्र में है और उसे गुजरात ले जाया जा रहा है।

 

जिसके बाद एनसीपीसीआर और मिशन मुक्ति के डायरेक्टर वीरेंद्र सिंह ने छोटी ग्वालटोली टीआई सविता चोधरी से सम्पर्क किया और पूरी घटना बताई।जिसके बाद टीआई ने कॉन्स्टेबल पकंज सिंह बघेल को निर्देशित किया कि गुजरात ओर राजकोट जाने वाली सभी बसों में चेकिंग की जाए और किसी भी अनहोनी के होने से पहले नाबालिग को बचा लिया जाए।कॉन्स्टेबल पंकज ने तफ्तीश की तो पता चला कि नाबालिग और आरोपी तीन इमली से राजकोट की बस में बैठे है।बस के कंडक्टर से सम्पर्क किया तो पता चला कि धार के नोगांव में नाबालिग और आरोपी परेश बस में सवार है ।जिसके बाद नोगांव पुलिस ने नाबालिग और आरोपी को बरामद किया।वहाँ नाबालिग के बयान लिए गए।जहाँ खुलासा हुआ कि फेसबुक पर दूसरा फ़ोटो लगाकर आरोपी ने नाबालिग को झांसा दिया कि तुमको सिंगर बनाऊंगा।इसके बाद जब नाबालिग मिलने पहुँची तो जबर्दस्ती उसे धमका कर अपने साथ ले आया।नाबालिग के पिता ने इसके बादक 10 जनवरी को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

 

इस मामले में मिशन मुक्ति फाउंडेशन के डायरेक्टर वीरेंद्र सिंह,छोटी ग्वालटोली थाना टीआई सविता चौधरी औऱ जवान पंकज सिंह बघेल,नोगांव थाने के एएसआई भैरव सिंह और एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।एनसीपीसीआर के अध्यक्ष ने ट्वीट कर टीआई सविता चौधरी और उनकी टीम और मिशन मुक्ति फाउंडेशन के सराहनीय कार्य के लिए बधाई भी दी है।इन सभी के सहयोग और सजगता से नाबालिग के साथ किसी भी अनहोनी से पहले उसका रेस्क्यू कर लिया गया है और आरोपी भी गिरफ्तार हो चुका है।वही पश्चिम बंगाल पुलिस की एक टीम और नाबालिग के पिता उसे लेने के लिए रवाना हो गए है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here