फेस्टिव सीजन में संभलकर करें ऑनलाइन शॉपिंग, ऑफर्स देकर हो रही ठगी

0
15

नई दिल्ली, फेस्टिव सीजन में लोग जमकर शॉपिंग कर रहे है। भाजारों में होने वाली भीड़-भाड़ से बचने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का चलन इन दिनों काफी बढ़ गया है। लोग घर बैठ ही चीजें बुलवाना ज्यादा पसंद कर रहे है। ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते दौर में साइबर ठग भी एक्टिव हो गए है, जो किफी न किसी तरह- से आपको चपत लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें- कोचिंग जा रही छात्रा के अपहरण की कोशिश, लोगों ने खंभे से बांधकर पीटा

दरअसल, त्योहारी सीजन में कंपनियां अपने कस्टमर्स को लुभाने के लिए अलग-अलग ऑफर्स दे एही है। ऑनलाइन शॉपिंग वेबसीतेस पर सेल चल रही है। बस इसी का फायदा साइबर ठग उठा रहे है। ये ठग लोगों को बंपर ऑफर देकर लिंक भेज रहे हैं, जिसपर क्लिक करते ही लोग ठगी का शिकार हो रहे है। पुलिस के पास इस तरह शिकायतों में इजाफा हुआ है, जिसके बाद लोगों से सतर्क रहने की अपील की गई है।

ये भी पढ़ें- 10वीं की छात्रा से नाबालिग ने दोस्तों के साथ किया गैंगरेप, तंग आकर खाया जहर

ठग 4जी से 5जी नेटवर्क में सिम बदलने और दीपावली-धनतेरस पर कपड़ों से लेकर इलेक्ट्रॉनिक सामानों पर भारी छूट दे रहे हैं। ऐसे में जैसे ही लिंक पर आप क्लिक करके एप्लिकेशन फॉर्म भरते हैं। उसके कुछ देर बाद आपका अकाउंट खाली हो जाता है और रुपये कटने का मैसेज आने के बाद ठगी का पता चलता है।

ठगी से बचने के लिए आपको इन बातों को ध्यान में रखना होगा-

  • निजी जानकारी को पब्लिक प्लेटफॉर्म पर शेयर न करें। ब्राउजर में सोशल मीडिया या किसी भी अकाउंट में लॉगिन करते समय keep me-login या Remember me न करें।
  • सोशल मीडिया साइट्स के लिए आधिकारिक ई-मेल का इस्तेमाल न करें।
    पासवर्ड बनाने में जन्म तिथि, गाड़ी नंबर, मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करने से बचें।
  • किसी भी पॉपअप ऐड को रिस्पॉन्ड न करें। असुरक्षित व फर्जी वेबसाइट पर विजिट करने से बचें।
  • काम होने के बाद ऑनलाइन अकाउंट को लॉग आउट करें। ईमेल अटैचमेंट के जरिए आए किसी भी सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर में इंस्टॉल न करें।
  • किसी के साथ कभी भी ओटीपी शेयर न करें। शॉपिंग और बैंकिंग का काम करते वक्त किसी का वाई-फाई इस्तेमाल न करें।
  • वेबसाइट के यूआरएल को चेक करें कि वो https से शुरू हो रहा है या नहीं। इसमें “S” दर्शाता है कि ये वेबसाइट एक सिक्योर कनेक्शन से कनेक्टेड है।
  • बैंक से खाते की केवाईसी अपडेट कराने के लिए कभी भी किसी से ओटीपी/सीवीवी/पिन नंबर नहीं साझा करना चाहिए।
  • ऑनलाइन सेवाएं देने वाली कंपनियों और सरकारी विभाग के कस्टमर केयर का नम्बर आधिकारिक वेबसाइट से ही लें।

 

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here